रोटी की अहमियत

भूख का दर्द कहाँ समझती है ये दुनिया,

रोटी के चोर को बस चोर समझती है ये दुनिया |

जब रहा नहीं गया तो मैंने भी ठान लिया,

खुद खाना बचा के लोगों को खाना दिया |

सिखी मैंने खाने की एहमियत, जब बच्चे को कचरे में खाना ढूँढते देखा,

फिर लोगों की मदद से ज़रूरतमंदों की भूख मिटाने का ख़्वाब देखा |

क्योंकि खाली हे उनका पेट और हसती हे ये दुनिया |

पर अब नहीं रूकना,

क्यूँकि भूख को हे मिटाना |

अब दिल भी हे मेरा मुसकराता,

जब ज़रूरतमंद बच्चा पेट भर खाना है खाता |

– Yashika Chandnani

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s

%d bloggers like this: