Chalal Trek

दिल चाहता है यह ीं रुक जाऊ, बाक  दजींिग  यह  दबताऊीं ….

टेडी  मेडी जंगल के   ककसी मोड़ पर रुक कर, दोनों हाथो को फै ला कर, आँखे अपनी बंद कर, लम्बी सांस लेकर,

वो गुण गुणाती नकदया, वो चिड़चिड़ाती किकड़या,

वो गीली चिट्टी की खुशबू,

वो आसमान से चिरती बफफ का जादू ,

वो छोटे छोटे सुन्दर िाँवो,

हर ककसी का मन करे यहााँ पे आकर बस जाओ,

वो वाचियोों से ढँ के  सुन्दर बचिया,

कजसमे बच्चे करे िैया िैया,

वो पहाड़ो की यह खूबसूरती जी हैं मैंने,

यहा आकर चिन्दिी का एक हूसूल चसखाया लोिो ने, नेिर हो या कल्िर इनका साथ कभी छोड़ो ित,

पहाड़ का हर कोना इस तरहा िेरे कदल मै आके  बैठा है,

कहमािल की यादों को मैंने कु छ ऐसे समेटा हैं,

दिल चाहता है यह रुक जाऊ बाक  दजन्दग  यह  दबताऊीं ….

-Lubhani Gangwal

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s

%d bloggers like this: